Posts

Showing posts from September, 2022

बिहार के सरकारी विद्यालयों की उन्नति के लिए विगत 3 वर्षों से निशुल्क एवं निस्वार्थ सेवा भाव से कार्य कर रही है टीचर्स ऑफ बिहार।

Image
  बिहार की सबसे बड़ी प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी टीचर्स ऑफ बिहार शिक्षको द्वारा, शिक्षकों के लिए, शिक्षकों का एक ऐसा अभिनव मंच है जो शिक्षा से जुड़े सभी हिताधिकारियों के द्वारा किये जा रहे शैक्षिक प्रयासों को साझा करने, नवाचारों से सीखने और लागू करने का अवसर और पहचान प्रदान करता है। इस अभिनव मंच की कल्पना आज से तीन वर्ष पूर्व इसके फाउंडर पटना जिले के शिक्षक शिव कुमार ने की थी। आज इस मंच से लाखों शिक्षक एवं शिक्षिकाएं फेसबुक ग्रुप एवं कुटुंब ऐप एवं अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से जुड़कर सीधे अपने विद्यालयों में आयोजित नवाचारी गतिविधि को साझा करते हैं। जिसमें से उत्कृष्ट फोटोज एवं विडियोज का चयन फोटो ऑफ द डे एवं 'वीडियो ऑफ द डे' एवं एक्टीविटी ऑफ द डे के रूप में टीम के मॉडरेटर के द्वारा ट्वीटर, लिंकडिन, इंस्टाग्राम, टेलीग्राम, यूट्यूब, व्हाट्सएप, कू ऐप पर साझा किया जाता है।  टीचर्स ऑफ बिहार के मंच से जुड़े शिक्षकों की साहित्यिक रचनाओं को गद्य गुंजन, पद्य पंकज एवं ब्लॉग्स के माध्यम से वेबसाइट पर प्रकाशित की जाती है। जिससे अन्य विद्यालय के शिक्षक एवं शिक्षिकाएं भी लाभान्वित

वैशाली जिला के अधिकारियों का तानाशाही फरमान

Image
  राघोपुर चारों ओर से नदी से घिरा क्षेत्र है।बाढ इस क्षेत्र की बहुत बडी समस्या है । ऐसी स्थिति में प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी राघोपुर एवं जिला कार्यक्रम पदाधिकारी वैशाली का फोनिक आदेश समझ से परे एवं अनुचित है। यह आदेश शिक्षकों की ईमानदारी पर कालिख पोतने जैसा है। ज्ञात हो कि इससे पहले वैशाली जिला में राघोपुर प्रखंड के शिक्षकों के लिए यह आदेश जारी किया गया था कि सभी शिक्षक शिक्षक उपस्थिति पंजी एवं शिक्षकों का फोटो तथा बच्चों की संख्या सुबह 9:30 तक व्हाट्सएप के माध्यम से विभाग को प्रेषित करना सुनिश्चित करेंगे जिसका पालन अभी तक हेड मास्टर के द्वारा किया जा रहा है किंतु इस बाढ़ के समय में दूरदराज के शिक्षकों का डीईओ ऑफिस में आकर हाजिरी देना या किसी तुगलकी फरमान से कम नहीं है वैशाली के की नजदीकी जिले समस्तीपुर में बाढ़ ग्रसित स्कूलों एवं क्षेत्रों मैं जब तक बाहर है तब तक विद्यालय का पठन-पाठन कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया है एवं शिक्षक भी छुट्टी पर चले गए हैं यही स्थिति मोतिहारी एवं अन्य बाढ़ ग्रस्त इलाकों की है किंतु वैशाली जिला में या तुगलकी फरमान जिला के अधिकारियों के द्वारा शोषण के उद्देश्य स

टीचर्स ऑफ बिहार के एक्सक्लूसिव कार्यक्रम लेट्स में शामिल हुए राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए बिहार से चयनित शिक्षक सौरव सुमन एवं शिक्षिका निशी कुमारी।

Image
  राष्ट्रीय शिक्षक सम्मान 2022 में बिहार से चयनित शिक्षक सौरव सुमन, ललित नारायण लक्ष्मी नारायण प्रोजेक्ट बालिका उच्च विद्यालय सुपौल एवं शिक्षिका, निशी कुमारी, उच्च माध्यमिक विद्यालय खुसरूपुर पटना की विजय गाथा को सार्वजनिक करने के उद्देश्य से बिहार की सबसे बड़ी प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी टीचर्स ऑफ बिहार ने आयोजित किया एक्सक्लूसिव कार्यक्रम लेट्स टॉक। इस लेट्स टॉक कार्यक्रम को टीम टीचर्स ऑफ बिहार के सदस्य डॉ. विनोद कुमार उपाध्याय एवं खुशबू कुमारी ने मॉडरेट किया।                इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार 2022 के लिए बिहार से चयनित शिक्षक सौरभ सुमन एवं शिक्षिका निशी कुमारी ने राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के बारे में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने इस पुरस्कार के लिए अपने प्रयासों की भी विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि, सभी टीचर्स प्रतिभावान होते हैं, उन्हें अपने कार्यों को सहेजने और उसके डाक्यूमेंट्सन पर ज्यादा ध्यान देने की ओर काम करना चाहिए। टीचर्स ऑफ बिहार के फाउंडर पटना जिले के शिक्षक शिव कुमार ने कहा कि बिहार में ऐसा पहली बार हुआ है कि जो शिक्षक राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप